कोई आवाज सी आई तो लगा तुम हो
कहीं से फूल महकाई तो लगा तुम हो



जिरह करते रहे हर पल, बुराई की नहीं तेरी
जो आंधी जज्बात की आई तो लगा तुम हो



कसीदे कसते रहे लोग मुझ पर हर घड़ी हर पल
कहीं संवेदना छाई तो लगा तुम हो


बगीचे सूख जाते हैं जो माली रूठ जाता है
कहीं जो शाम गरमाई तो लगा तुम हो



तसब्बुर भी मेरा अब हर घड़ी तुम पर ही आता है
हकीकत भी जो घर आई तो लगा तुम हो



यकीं है मुझे तुमसे मिलूंगा मैं कहीं एक दिन
मुझे फिर देखके जो वो मुस्काई तो लगा तुम हो...




राम कृष्ण गौतम "राम"

13 प्रतिक्रियाएँ:

Amar Pratap Singh ने कहा…

कोई आवाज सी आई तो लगा तुम हो
कहीं से फूल महकाई तो लगा तुम हो
.nice

shishirthakur167 ने कहा…

तसब्बुर भी मेरा अब हर घड़ी तुम पर ही आता है
हकीकत भी जो घर आई तो लगा तुम हो..


Great... Gud Going...

My World ने कहा…

Hey! Nice Posting yaar...

gyanadhurahai ने कहा…

Hmmmm!!! Very Gud...

ज्ञान प्रताप सिंह ने कहा…

Badhia Likhte ho dost.. Likhte raho!

बूझो तो जानें ने कहा…

Bahut badiya.Badhai..

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

NICE ONE!!!!

अल्पना वर्मा ने कहा…

कसीदे कसते रहे लोग मुझ पर हर घड़ी हर पल
कहीं संवेदना छाई तो लगा तुम हो

waah!
bahut achchha likhte ho Gautam.
khyaal achche hain.
----------------
aaj post ka presentation bhi bahut achchha hai

Ram Krishna Gautam ने कहा…

इस तारीफ़ और मेरे ब्लॉग पर आने का शुक्रिया अल्पना जी!
वैसे कोई भी लेखन अच्छा तभी बनता है जब अच्छा पढने वाले मिलें!! बात मेरी लेखनी में नहीं, आप लोगों की निगाहों में है!!!

gyanadhurahai ने कहा…

Are! Haan, Main to poochhna hi bhool gaya. Ye sab likhne ke lie koi exersize bagairah karte ho kya Gautam ji?

ज्ञान प्रताप सिंह ने कहा…

Agree!


Vaise achchha likhte ho!!

DEEPAK SHARMA KAPRUWAN ने कहा…

bahut hi badiya hai ye rachna.... aur abhivyakti ki to baat hi kuch aur hai.....

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

Feeds

Related Posts with Thumbnails