यूं हमको सताने की ज़रूरत क्या थी
दिल मेरा चुराने की ज़रूरत क्या थी

जो नहीं था इश्क़ तो कह दिया होता
होश मेरे उड़ने की ज़रूरत क्या थी

मालूम था अगर ये ख़ाब टूट जाएगा
नींदों में आकर जगाने की ज़रुरत क्या थी

मान लूं अगर ये एकतरफा मोहब्बत थी
फिर मुझे देखकर मुस्कुराने की ज़रुरत क्या थी

4 प्रतिक्रियाएँ:

Shikha Deepak ने कहा…

badhiya likhte hain aap........sunder rachna.

kshama ने कहा…

मालूम था अगर ये ख़ाब टूट जाएगा
नींदों में आकर जगाने की ज़रुरत क्या थी
Bada anokha andaaz hai!

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत लाजवाब.

रामराम.

kunalkishore ने कहा…

aapki dastak maine padhi, likha hai dastak hausla degi
kehna chahta hu accha likha hai appne
bahut khub
bt aap wo chij ho jinhe hausla nhi hausle ko aapki darkar hogi
jiyo

Feeds

Related Posts with Thumbnails