हमने चाहत की बुलंदगी देखी
आँख तरबतर दरख्तों पे यूं लगी देखी

चल पड़ा था माथे से पसीने का जुलूस
लरज़ते होंठ, मोहब्बत की बंदगी देखी

0 प्रतिक्रियाएँ:

Feeds

Related Posts with Thumbnails