शायद ज़िन्दगी बदल रही है!!
जब मैं छोटा था, शायद दुनिया बहुत बड़ी हुआ करती थी..
मुझे याद है मेरे घर से "स्कूल" तक का वो रास्ता,
क्या क्या नहीं थावहां, चाट के ठेले, जलेबी की दुकान, बर्फ के गोले, सब कुछ
अब वहां "मोबाइल शॉप", "विडियो पार्लर" हैं, फिर भी सब सूना है..
शायद अब दुनिया सिमट रही है...

जब मैं छोटा था, शायद शामें बहुत लम्बी हुआ करती थी.
मैं हाथ में पतंग की डोर पकडे, घंटो उडा करता था,
वो लम्बी "साइकिल रेस",वो बचपन के खेल,
वो हर शाम थक के चूर हो जाना,
अब शाम नहीं होती, दिन ढलता है और सीधे रात हो जाती है.
शायद वक्त सिमट रहा है..

जब मैं छोटा था, शायद दोस्ती बहुत गहरी हुआ करती थी,
दिन भर वो हुज़ोम बनाकर खेलना, वो दोस्तों के घर का खाना,
वो लड़कियों की बातें, वो साथ रोना, अब भी मेरे कई दोस्त हैं,
पर दोस्ती जाने कहाँ है, जब भी "ट्रेफिक सिग्नल" पे मिलते हैं "हाई" करते हैं
और अपने अपने रास्ते चल देते हैं,
होली, दिवाली, जन्मदिन, नए साल पर बस SMS आ जाते हैं
शायद अब रिश्ते बदल रहें हैं..

जब मैं छोटा था, तब खेल भी अजीब हुआ करते थे,
छुपन छुपाई, लंगडी टांग, पोषम पा, कट थे केक, टिप्पी टीपी टाप.
अब इन्टरनेट, ऑफिस, हिल्म्स, से फुर्सत ही नहीं मिलती..
शायद ज़िन्दगी बदल रही है....

जिंदगी का सबसे बड़ा सच यही है॥
जो अक्सर कब्रिस्तान के बाहर बोर्ड पर लिखा होता है.
"मंजिल तो यही थी, बस जिंदगी गुज़र गयी मेरी यहाँ आते आते ".
..जिंदगी का लम्हा बहुत छोटा सा है।
कल की कोई बुनियाद नहीं है
और आने वाला कल सिर्फ सपने मैं ही हैं.
अब बच गए इस पल मैं..
तमन्नाओ से भरे इस जिंदगी मैं हम सिर्फ भाग रहे हैं..
इस जिंदगी को जियो न की काटो

Do you agree that
WE were More Happy in the Past ?
We were More Satisfied in the Past ?
& We had more QUALITY Time in the PAST ?
Your Feelings are awaited
Thank You!

7 प्रतिक्रियाएँ:

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

hriday ki tadfan bhari hai rachna me..
bhavpoorn kavita.

Rahul Singh ने कहा…

बड़े होकर बड़प्‍पन सहित बना रहे, जिन्‍दा रहे यह जज्‍बा.

शुभम जैन ने कहा…

bahut sundar raachna...sahi me bachpan ke wo din bahut yaad aate hai...bahut tezi se zindgi badal gyi aur kabrishtan ka sach to shaswat satay hai.

shubhkamnaye...

kshama ने कहा…

..जिंदगी का लम्हा बहुत छोटा सा है।
कल की कोई बुनियाद नहीं है
और आने वाला कल सिर्फ सपने मैं ही हैं.
अब बच गए इस पल मैं..
तमन्नाओ से भरे इस जिंदगी मैं हम सिर्फ भाग रहे हैं..
इस जिंदगी को जियो न की काटो
Kya baat kahee hai! Sach! Na jane kahan kho gaye wo qeemtee lamhen? Zindagi zaroorat se zyada tez raftaar ho gayi hai!

anshumala ने कहा…

चलिए आप भी इस कविता के मुरीदो और उसे प्रकाशित करने वालो की लाइन में आ गए क्या आप को पता है की ये कविता अब तक कहा कहा प्रकाशित हो चुकी है लिंक देखिये |
http://mangopeople-anshu.blogspot.com/2010/11/mangopeople_15.html

ज़मीर ने कहा…

Sach kaha aapne.ab wo bachpan ke din yaad aate hai. pehle ki tarah ab din nahi guzarte waqt ke sath log aur samay badal gaye hai.

Ram Krishna Gautam ने कहा…

शुक्रिया अंशु जी, मुझे इस कविता का हरेक शब्द छू गया है, लेकिन वही समस्या मेरे साथ है, मुझे भी इसके रचनाकार का नाम नहीं पता!!?!!


राम

Feeds

Related Posts with Thumbnails