लब पे तेरे इकरार-ऐ-मोहब्बत अभी सुना-सुना लगता है
शर्म से चेहरा लाल गुलाबी फूल कँवल का लगता है

दिल की नज़र से टकराए भी एक ज़माना बीत गया
चोट मगर है इतनी ताज़ा जैसा हादसा कल का लगता है

बेखुद होकर मस्त हवाएं ऐसे लहराती थीं
ये जादू तो हल्का-हल्का तुम्हारे आचल का लगता है

हम समझे थे तुम भूल गए हो वो चाहत का अफसाना
आज मगर फिर दर्द सा दिल में हल्का-हल्का लगता है

पास होकर दूर जाने की ये अदा हमें तड़पाती है
तुझ एक के ही न होने से जग सूना-सूना लगता है

3 प्रतिक्रियाएँ:

AlbelaKhatri.com ने कहा…

waah.......soch achhi !

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत खूब!!!

kshama ने कहा…

बेखुद होकर मस्त हवाएं ऐसे लहराती थीं
ये जादू तो हल्का-हल्का तुम्हारे आचल का लगता है

हम समझे थे तुम भूल गए हो वो चाहत का अफसाना
आज मगर फिर दर्द सा दिल में हल्का-हल्का लगता है
Aprarateem!

Feeds

Related Posts with Thumbnails