हथेली सामने रखना कि
सब आंसू गिरें उसमें...
जो रुक जाएगा हाथों पर
समझ लेना कि वो हम हैं

जो चल जाए हवा ठंडी
तो आँखें बंद कर लेना...
जो झोंका तेज़ हो सबसे
समझ लेना कि वो हम हैं

जो ज्यादा याद आऊं मैं
तो रो लेना तू जी भर के...
अगर हिचकी कोई आए

समझ लेना कि वो हम हैं

अगर तुम भूलना चाहो
मुझे शायद भुला दो तुम...
मगर जब भूल न पाओ
समझ लेना कि वो हम हैं

2 प्रतिक्रियाएँ:

वन्दना ने कहा…

गज़ब की भावभीनी प्रस्तुति।
कृपया ये लिंक खोलिये और पसन्द करिये और अपने दोस्तो से भी पसन्द करवाइये……आभारी रहूँगी

http://www.catchmypost.com/index.php/hindi-corner/kavita/552-2011-09-30-17-34-36

kshama ने कहा…

Behad sundar!

Feeds

Related Posts with Thumbnails