क़दम थक गए हैं, दूर निकलना छोड़ दिया है
पर ऐसा नहीं कि मैंने चलना छोड़ दिया है

फासले अक्सर मोहब्बत बढ़ा देते हैं
पर ऐसा नहीं कि मैंने करीब जाना छोड़ दिया है

 


































मैंने चिराग़ों से रोशन की है अपनी शाम
पर ऐसा नहीं कि मैंने दिल को जलाना छोड़ दिया है

मैं आज भी अकेला हूँ दुनिया की भीड़ में
पर ऐसा नहीं कि मैंने ज़माना छोड़ दिया है

हाँ! दिख ही जाती है मायूसी मेरे दोस्तों को मेरे चेहरे पर
पर ऐसा नहीं कि मैंने मुस्कराना छोड़ दिया है..!

1 प्रतिक्रियाएँ:

Vipin Pandey ने कहा…

Wah.. Kya baat hai

Feeds

Related Posts with Thumbnails